SEO Ke Liye Internal Link Kaise Banaye – Hindi

आज के इस आर्टिकल में चलिए जानते है, SEO के लिए इंटरनल लिंक कैसे बनाएं? SEO ke liye Internal Link Kaise Banaye और अपने Blog par traffic kaise improve kare.

30

अगर आप अपने Blog पर कम ट्रैफिक होने से परेशान है तो आप सही आर्टिकल पर है। क्यूकी आज के इस आर्टिकल में हमारा टॉपिक ही अपने Blog par traffic improve kaise kare और SEO के लिए इंटरनल लिंक कैसे बनाएं? SEO ke liye Internal Link Kaise Banaye? के बारे में है, तो चलिए जानते है Internal Link Kaise Banaye, अपने Blog par traffic kaise improve kare.

SEO Ke Liye Internal Link Kaise Banaye - Hindi

  • Blog ParTraffic Kaise Improve Kare

ब्लॉग ट्रैफिक बढ़ाने के लिए  On Page SEO या Off Page SEO करना होता है, जिसके बारे में पिछले आर्टिकल में पूरी डिटेल के साथ मै पहले ही शेयर कर चूका हूँ। अभी On Page SEO में ही आने वाला पॉइंट्स इंटरनल लिंक के बारे में जानेगे और डिटेल्स में समझेंगे की कैसे इसे बनाया जाए या कैसे इंटरनल लिंक हमारे ब्लॉग की ट्रैफिक blog traffic या Page View बढ़ाने में मदद कर सकता है।

ब्लॉग पर अगर जदा ट्रैफिक लाना है तो उसके लिए सबसे महत्वपूर्ण है Quality Content, क्योंकी जो user को चाहिए वो अगर हमारी वेबसाइट पर होगा ही नहीं तो कितना भी कोशिश करो user आपके वेबसाइट पर नहीं आयगे. और अगर कोई गलती से आ भी गया तो तूरंट कट करके चला जाएगा।

  • Backlink

अगर आपकी वेबसाइट है और आप उसमे SEO करते हैं तो आप ये तो जानते ही होंगे, जितने भी रैंकिंग फैक्टर (ranking factor) है उनमें से एक Important factor “Backlink” भी है।  जिसमे हमारे website post पर किसी दूसरे वेबसाइट से लिंक आया होता है।

जो Backlink होता है वो दूसरे वेबसाइट से आता है, जिसके लिए देखा जाए तो हमें ज्यादा effort देना पड़ता है। पर अगर हमारी कोई पोस्ट अच्छा रैंक/rank कर रही है तो हम उस पोस्ट से भी अपनी दसरी पोस्ट को लिंक करके रैंक करा सकते है।

  • Google Index

जैसे की कोई पोस्ट Google में index होती है तो Crawler उस पेज पर जितने भी लिंक है उनपर जाता है और उनको index करता है। तो अगर कोई हमारी पुरानी पोस्ट Google में index है और उसपर अच्छा traffic आ रहा है तो हम उसमे अपनी new post की  link add कर दे जिससे Google की नजर हमारी new post पर जल्दी चली जाती है।  जिससे वो Google में जल्दी index हो जाती है।

चलिए अब थोड़ा बिस्तर से समझ लेते हैं। Internal Linking kya hoti hai, और  हम कैसे Internal Link बना सकते हैं और इसकी मदद से कैसे हम अपने Blog ke Traffic या Page View के साथ अपने Blog ki rank बढ़ा सकते है।

SEO में Internal Linking क्या है।

SEO me Internal Linking Kya hai?: जितने भी Links जो किसी भी Blog post या पेज में है अगर वो उसी domain के है तो उन्हें Internal Link यानि आंतरिक लिंक कहा जाता है। और अगर कोई link किसी दूसरे domain पर है तो उसे External Link यानि बाहरी लिंक कहा जाता है।

Internal Link Search Engine को New Page discover करने में बहुत मदद करता है। और उसके साथ साथ user को भी website पर बनायें रखने में Internal Link सबसे जरूरी है।

  • Ranking

आगर website ko rank karna है तो उसके लिए सबसे महत्वपूर्ण है, यूजर को अपनी वेबसाइट पर ज्यादा से ज्यादा समय तक टिकाये रखना। जिस से Google को ये सिग्नल जाता है की यूजर इस वेबसाइट पर इतनी देर रुक रहा है। मतलब इस वेबसाइट पर वो सामग्री है जो यूजर को चाहिए। वही अगर उपयोगकर्ता किसी वेबसाइट से जलदी चला जाता है तो Google को ये सिग्नल जाता है की उस वेबसाइट पर वो चीज नहीं है जो उपयोगकर्ता यानि user को चाहिए। तो उसके वजह से Google उस वेबसाइट की रैंक को नीचे कर के किसी दूसरी वेबसाइट को ऊपर कर देता है।

  • User को अपनी Website पर बनाये रखें।

मान लीजिये कोई उपयोगकर्ता आपकी वेबसाइट पर आता है, और जो भी जानकारी उसे चाहिए वो उसे मिल भी जाती है, उससे संबंधित और भी पोस्ट आपके ब्लॉग में है और आपने उस पोस्ट का लिंक अपने उस पोस्ट में दिया है तो यूजर उस  लिंक्स पर click करके आपकी दूसरी पोस्ट पर भी चला जाएगा। इस से यूजर आपकी वेबसाइट पर बना रहेगा और आपकी वेबसाइट का Bounce Rate कम होगा।

मुझे आशा है की अब आप SEO में इंटरनल लिंकिंग क्या है – SEO me Internal Linking Kya hai? और Internal Link ke fayde समझ गए होंगे।

इसे भी पढ़ें: How to Increase Blog Traffic in Hindi

Internal Link कैसे बनाएं।

Internal Link kaise Banaye?: Internal Linking का सिर्फ एक नियम है, जितने भी लिंक हो वो उस पेज से relevant हो। ऐसा नहीं की आप बात किसी दूसरे Topic की कर रहे हो, और आप उस पोस्ट में लिंक किसी ऐसे topic की जोड़ दे जिसका उस से कोई लेना देना ही नहीं हो।

  • Related Post or Popular Post

आप अपने Blog में Related Post या Popular Post के Widget भी जोड़ सकते हैं। जिस से उपयोगकर्ता को उस पोस्ट से संबंधित दूसरे पोस्ट भी दिख जाएंगे और  आपके ब्लॉग के Best Post है वो भी दिख जायेंगे। इस से उपयोगकर्ता का उन पर क्लिक करके दूसरे पोस्ट को भी पढ़ने के लिए chance बढ़ जाएगा।

High Quality Post kaise likhe – हाई क्वालिटी पोस्ट कैसे लिखते हैं ये तो आप जानते ही होगे। कोई भी पोस्ट हो उसे इस सोच के साथ लिखा जाता है जो यूजर को जैसा चाहिए वैसा ही हम पोस्ट में content दें। कहने का मतलब हमें user experience बढ़ाना है।

  • Quality Content

यूजर को Quality content मिले तो वो हमारी दूसरी पोस्ट भी पढ़ते है। जैसे मान लीजिये, कोई पोस्ट blogging के ऊपर आपने लिखा है तो हम उस पोस्ट में blogging से related ही दूसरी पोस्ट जो की पहले से ही पब्लिश कर चुके है उस पोस्ट की internal link दे सकते है। जिससे उपयोगकर्ता का अगर उसमे दिलचस्पी होगा तो उन लिंक पर क्लिक करें उन पोस्ट को भी पढ़ेगा।

  • Internal Linking का Live Example

Internal Linking का लाइव उदाहरण आप इसी आर्टिकल में देख सकते हैं, किस तरह सबी important topic को internal link किया हुआ है। और इसका एक सबसे अच्छा उदाहरण विकिपीडिया / Wikipedia भी है, जिसमे सभी पेज Internal link होते हैं।

तो अब आप समझ गए होंगे, Internal Link कैसे बनाते है। और कैसे आप  Internal Linking की मदद से user को अपनी website पर बनाए रख सकते हैं।

  • Post Related Linking

मै ऊपर भी  बता चूका हूँ और फिर दोहरा रहा हूँ की Internal Linking में आपको एक बात हमेशा ध्यान रखना है, जो भी पेज है, उससे related linking ही आपको करना है। ऐसा ना हो यूजर ही कन्फ्यूज हो जाए की ये कॉन्सा लिंक है और ये क्या open हो गया।

Internal Linking Link यूजर को distribute करने में भी मदद करता है। जैसे अगर हमारी किसी पोस्ट पर ज्यादा High Quality Backlink है तो हम अपने उस पेज से दूसरे पेज को internal link देकर उसकी rank improve कारा सकते है।

इसे भी पढ़ें: Site की गति SEO को कैसे प्रभावित करती है?

अगर आप WordPress यूज़ करते हैं तो आप Internal linking के लिए Plugin है उनको भी इंस्टॉल कर सकते हैं, जिससे ऑटोमैटिक इंटरनल लिंकिंग हो जाती है.

निष्कर्ष

Internal Linking ब्लॉग के लिए एक Important factor है, जो SEO और User  दोनो के लिए important है। अगर सही तरह से internal linking की जाए तो उपयोगकर्ता को website पर ज्यादा देर तक रोका जा सकता है। साथ ही अपनी website ki ranking improve कर सकते हैं।

आपको Internal Linking की जानकारी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं, साथ ही अगर आपके कोई सवाल या सुझाव हो तो वो भी कमेंट कर के शेयर करें। थैंक्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here