How to Check Website SEO Score for Free Hindi

यहां हम वेबसाइट का SEO Score फ्री में चेक करने के लिए एक फ्री टूल बताएंगे। इस टूल की मदद से आप अपनी पूरी साइट के SEO को अच्छे तरीके से चेक कर पाएंगे। और आप किसी भी कमियों को सुधार पाएंगे।

18

नमस्कार दोस्तों, आइए आज इस पोस्ट में सीखते हैं कि How to Check Website SEO Score for Free Hindi,  Free में Website SEO Score Check कैसे करें।

How to Check Website SEO Score for Free Hindi

बहुत से नए ब्लॉगर महीनों तक अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर काम करते हैं, लेकिन उन्हें रिजल्ट नहीं दिखता, न ही उनकी साइट पर कोई ट्रैफिक आता है और न ही उन्हें पता होता है कि उनकी साइट का SEO (Search Engine Optimization) सही है या नहीं।

इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि Website SEO Score Check Free में कैसे किया जाता है। क्योंकि आपके ब्लॉग या वेबसाइट का SEO चेक करने के लिए बहुत सारे टूल्स हैं। लेकिन कुछ अच्छे टूल्स का भुगतान करना पड़ता है, यानी हमें उन्हें खरीदना पड़ता है। लेकिन हम यहाँ बताने वाले है नि: शुल्क यानि Free SEO Checker Tool, और वो कौन से हैं चलिए जानते है।

यहां हम वेबसाइट का SEO Score फ्री में चेक करने के लिए एक फ्री टूल बताएंगे। इस टूल की मदद से आप अपनी पूरी साइट के SEO को अच्छे तरीके से चेक कर पाएंगे। और आप किसी भी कमियों को सुधार पाएंगे।

वेबसाइट SEO Score फ्री में कैसे चेक करें?

Website SEO score free me kaise check kare: Seobility एक ऐसी साइट है जो हमें डिजिटल मार्केटिंग से संबंधित कई टूल प्रदान करती है, इन्हीं में से एक टूल SEO Checker है। और क्या करना होगा ताकि आपकी साइट जल्द से जल्द सर्च इंजन में रैंक कर सके।

  • SEO चेकर टूल का उपयोग करना

आप अपने मोबाइल या कंप्यूटर में SEO Checker Tool को ओपन करें और थोड़ा नीचे स्क्रॉल करें और फिर SEO Checker के बॉक्स पर क्लिक करें।

SEO Checker के बॉक्स पर क्लिक करने के बाद आप अपनी वेबसाइट का URL डालें और फिर नीचे दिए गए एनालिसिस वेबसाइट के हरे बटन पर क्लिक करें।

जैसे ही आप analyze website के बटन पर क्लिक करते हैं, यह tool आपके सामने आपके ब्लॉग या वेबसाइट का Full SEO हेल्थ रिजल्ट दिखाएगा।

1. मेटा जानकारी – Meta information

सबसे पहले यह टूल आपकी वेबसाइट की मेटा जानकारी के बारे में बताएगा। मेटा जानकारी में निम्नलिखित चीजें शामिल हैं जैसे Title, Meta Description, Crawlability, Canonical URL, Language, Page URL, Favicon, Meta tags, etc.

  • शीर्षक – Title

आपके ब्लॉग पोस्ट का शीर्षक 580 pixels तक होना चाहिए, यदि आपके ब्लॉग पोस्ट का शीर्षक 580 पिक्सेल से अधिक है, तो यह ब्लॉग SEO के लिए उपयुक्त नहीं है, क्योंकि खोज परिणाम में केवल शीर्षक 580 pixels तक दिखाई देता है। जाओ।

  • मेटा विवरण – Meta Description

search result में Title के साथ Meta description भी दिखाई देता है, इसलिए आपको अपने ब्लॉग पोस्ट का मेटा डिस्क्रिप्शन 624 पिक्सल से 1000 पिक्सल तक रखना चाहिए, अगर आप इससे ज्यादा डिस्क्रिप्शन लिखेंगे तो यह सर्च रिजल्ट में नहीं आएगा।

  • क्रॉलेबिलिटी – Crawlability

आपका ब्लॉग पोस्ट ऐसा होना चाहिए कि Google के bots आसानी से crawl कर सकें, इसके लिए आपको अपनी पोस्ट के URL और पोस्ट के अंदर की गई interlinking और outbound links पर विशेष ध्यान देना चाहिए।

क्योंकि अगर आपके पेज की Crawlability सही नहीं होगी तो Google के bots उस पेज को crawl नहीं कर पाएंगे और फिर index नहीं कर पाएंगे।

  • कैननिकल यूआरएल – Canonical URL

यदि आपके ब्लॉग पर एक से अधिक पेज एक जैसे यानी एक ही कंटेंट है तो उन सभी पेजों में एक पेज को Canonical URL declare करें, नहीं तो गूगल उनमें से किसी एक को अपने हिसाब से Canonical URL के रूप में index कर देगा। शेष पृष्ठ को index नहीं करेगा।

  • भाषा – Language

चाहे आप अपना ब्लॉग पोस्ट हिंदी में लिखें या अंग्रेजी या किसी अन्य भाषा में, उसी भाषा को अपने ब्लॉग की सेटिंग में सेट करें।

  • पेज का पता – Page URL

आपके ब्लॉग का URL सही होना चाहिए उदाहरण के लिए अगर कोई आपके ब्लॉक पर कोई category खोलता है तो उसका URL कुछ इस तरह होना चाहिए। example.com/category/page-url/.

  • फ़ेविकॉन – Favicon

हम अपने ब्लॉग पर एक logo अपलोड करते हैं और एक favicon upload करते हैं, favicon URL के साथ search engine में दिखाई देता है।

Logo और favicon Google के साथ-साथ अन्य उपयोगकर्ताओं को आपके ब्लॉग को पहचानने में मदद करते हैं, इसलिए कृपया Logo और favicon अपलोड करें।

  • मेटा टैग – Meta tags

जब हम कोई पोस्ट लिखने के बारे में सोचते हैं तो सबसे पहले हम उसके लिए Keyword Research करते हैं, एक हमारा main Keyword होता है और बाकी उससे related दूसरे Keywords होते हैं।

इसे भी पढ़े: Blogger vs WordPress ब्लॉगिंग के लिए कौन बेहतर प्लेटफॉर्म है?

Main Keyword के अलावा जो भी अन्य Keyword हमारी पोस्ट से संबंधित हैं, हम उनका उल्लेख अपने पोस्ट के अंदर करते हैं और उन्हें Meta tags में डालते हैं, यह आवश्यक है ताकि आपकी पोस्ट अलग-अलग Keyword पर rank कर सके।

2. पृष्ठ गुणवत्ता – Page quality

दूसरे नंबर में यह टूल हमारे ब्लॉग की पेज क्वालिटी के बारे में बताएगा। page quality, Content, Mobile optimization, Bold and strong tags, Image SEO, Social Networks, HTTPS etc चीजें आती हैं।

  • विषय – Content

कंटेंट (Content) का मतलब है, हम जो कुछ भी लिखते हैं और अपने पोस्ट के अंदर images डालते हैं, उसे content कहा जाता है।

हमारी एक पोस्ट के अंदर कम से कम 800 शब्द होने चाहिए और 2 से 3 लाइन का एक पैराग्राफ सिर्फ seo friendly blog के हिसाब से फिट बैठता है।

  • मोबाइल अनुकूलन – Mobile optimization

अपने ब्लॉग को मोबाइल के हिसाब से optimization किया जाना चाहिए यानी जब कोई आपके ब्लॉग को desktop में open करे तो वह desktop की screen में फिट हो जाए और मोबाइल में open होने पर मोबाइल में भी पूरी तरह फिट हो जाए।

  • बोल्ड और मजबूत टैग – Bold and strong tags

हमारे ब्लॉग पोस्ट के title, heading, sub heading, tags में ये सभी चीजें bold and strong होनी चाहिए, इसके लिए आप अपने ब्लॉग की थीम को optimize और सेट कर सकते हैं या पोस्ट लिखते समय भी आप ऐसा ही कर सकते हैं।

  • फोटो एस. ई. ओ. – Image SEO

Image SEO की शुरुआत Image को Design करते समय ही होती है, जब भी आप अपने Blog Post के लिए Image Design करें तो उसका Rename करें और Main Keyword दर्ज करें।

इसके अलावा ब्लॉग पोस्ट में इमेज अपलोड करते समय अपने पोस्ट के main keyword को Alt tags में डालना न भूलें।

  • सामाजिक नेटवर्क – Social Networks

आपके ब्लॉग पोस्ट में एक social sharing icon होना चाहिए ताकि कोई भी visitor जो आपकी पोस्ट पढ़ता है, उस पोस्ट को different social platforms पर share कर सके।

आप अपने ब्लॉग के widgets में जाकर social sharing icon जोड़ सकते हैं या यदि आपका ब्लॉग WordPress पर है तो इसके लिए WordPress plugins भी उपलब्ध हैं।

  • HTTPS

आपका ब्लॉग HTTPS में ओपन होना चाहिए, हम SSL certificate के जरिए ऐसा करते हैं। आप अपने ब्लॉग को cloudflare से connect कर सकते हैं, यहां आपको Free SSL certificate मिलता है।

3. लिंक संरचना – Link structure

SEO score का तीसरा नंबर रिजल्ट Link structure का होता है और इसमें दो तरह के लिंक होते हैं, Internal Link, और External Link.

  • आंतरिक लिंक – Internal Link

जब हम कोई पोस्ट लिखते हैं तो हम उसी कैटेगरी के दूसरे पोस्ट को इस पोस्ट में लिंक करते हैं और इसे internal link कहते हैं।

इसे भी पढ़े: Google SERPs पर high रैंक कैसे करें – 6 बेहतरीन टिप्स

आपकी सभी पोस्ट में Internal linking होनी चाहिए, इससे Google के crawler को आपके सभी पेज crawl करने में मदद मिलती है। साथ ही आपके एक पेज पर आने वाले visitors भी उसी Internal Link की मदद से दूसरे पेज पर जाते हैं।

  • बाहरी लिंक – External links

हमें अपनी पोस्ट से संबंधित अन्य High Authority site या पेज को अपने पोस्ट में लिंक करना चाहिए और इसे External Link कहते हैं।

4. बाहरी कारक – External Factors

SEO Checker Tool का चौथा SEO परिणाम बाहरी कारक हैं और इसमें High Quality Backlink से संबंधित चीजें शामिल हैं।

  • Backlinks

हमें अपने पेज या ब्लॉग के लिए High Quality Backlink बनाना चाहिए, इससे हमारे ब्लॉग को उन high authority sites का सपोर्ट मिलता है, जिससे हमारे पेज जल्दी रैंक करते हैं।

निष्कर्ष –  Conclusion

हम उम्मीद करते हैं कि यह पोस्ट आपके लिए काफी मददगार साबित हुई होगी, How to Check Website SEO Score for Free Hindi, check seo score free Hindi, अगर अभी भी इस पोस्ट Check Website SEO Free Hindi से संबंधित आपके मन में कोई सवाल या सुझाव है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here